Home चंद्रपूर सनसनीखेज :-मध्यप्रदेश पॉवर जनरेशन कंपनी लि पर क्यो मंडरा रहा बिजली उत्पाद...

सनसनीखेज :-मध्यप्रदेश पॉवर जनरेशन कंपनी लि पर क्यो मंडरा रहा बिजली उत्पाद का संकट?

चंद्रपूर और वणी तहसील वेकोलीसे व्हाया विमला रेल्वे सायडिंगसे मध्यप्रदेश मे जानेवाले कोयले की आपूर्ति मे क्या है गडबडी?

चंद्रपूर न्यूज ब्यूरो :-

मध्यप्रदेश के बिजली घरोमे महाराष्ट्र के चंद्रपूर और वणी तहसील वेकोली क्षेत्र से बडी पैमाने मे कोयले की आपूर्ति होती है इसमें महावीर कोल वॉशरिज को करीबन 4 लाख टन कोयले की आपूर्ति का टेंडर मिला है मगर मध्यप्रदेश के बिजली घरोमे जानेवाले इस कोयले मे पॉवर प्लांट की राख,कोल वॉशरिज का रिजेक्टेड कोयला और आयर्न कंपनी के वेस्टेज मटेरिअल की चंद्रपूर के निजी विमला रेल सायडिंग मे मिलावट कर रेल्वेसे ये कोयला मध्यप्रदेश पॉवर जनरेशन कंपनी को आपूर्ति हो रही है जिससे बिजली उत्पादन प्रभावित हो रहा है और कंपनी को अपेक्षा से ज्यादा की कोयले की आवश्यकता हो रही है, इसलिए बिजली घरोमे कोयले का स्टॉक दिन ब दिन कम होनेसे मध्यप्रदेश के कई बिजली प्लांट बंद होनेके कगारपर है.

मध्य प्रदेश में एक बार फिर ब्लैकआउट का खतरा मंडरा रहा है. वजह ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले की आपूर्ति की कमी है. रबी सीजन में बिजली की मांग अधिक होती है, उस वक्त बिजली उत्पादन कम हो गया है. पावर प्लांट में दो से सात दिन का कोयला ही बचा है. श्रीशिंगाजी मे करीबन 2700 मेगावॉट बिजली उत्पादनकी जगह केवल 1700 मेगावॉट बिजली उत्पादन हो रहा है.सारणी मे 1330 मेगावॉट बिजली उत्पादन की जगह केवल 253 मेगावॉट बिजली उत्पादन हो रही है इस प्लांट मे करीबन 20500 टन कोयले की आपूर्ति होनी चाहिए मगर स्टॉक 38300 टन है.संजय गांधी तापगॄह मे 1340 मेगावॉट की जगह केवल 477मेगावॉट उत्पादन हो रहा है. अमरकंटक मे 210मेगावॉट की जगह 149 मेगावॉट बिजली उत्पादन शुरू है. बिरसिहपूर की तो 210 मेगावॉट की युनिट बंद हो गयी है.श्रीशिंगाजी की 600 मेगावॉट की युनिट पिछले 6 जनवरी से बंद है.

उपरोक्त बिजली घरोमे कोयले की आपूर्ति नही होनेसे या फिर मशीन मे आये ब्रेक डाऊन से बिजली उत्पादन बंद है और इसका सटीक कारण यह है की जिस प्रकार से मिलावट कोयला बिजली घरोमे आ रहा है उससे बिजली स्वयंत्र मे बिघाड हो रही है और इसलिए शट डाऊन होनेसे बिजली की किल्लत का सामना करना पड रहा है इसलिए इस कोयले की हेराफेरी मे चल रहे काले कारणामे को सीबीआय जांच करके सामने नही लाया जाएगा तबतक बिजली घरोमे बिजली उत्पादन ऐसाही प्रभावित होगा ऐशी चर्चा अब हो रही है.

Previous articleदखलपात्र :- मनसे नेते तात्या मोरे यांच्यात मला देव दिसला,
Next articleमुंबईच्या पदाधिकाऱ्यांनी लक्षवेधक ठरवली  चंद्रपूर मनसे पदाधिकाऱ्यांची आढावा बैठक.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here