Home चंद्रपूर चिंताजनक :- ताडाली और राजूर रेल्वे सायडिंग बने कोयला चोरी के अड्डे?

चिंताजनक :- ताडाली और राजूर रेल्वे सायडिंग बने कोयला चोरी के अड्डे?

अच्छा कोयला खुले मार्केट मे और कोयला चुरी के साथ वॉशरिज के रिजेक्टेड कोल के साथ स्पँज आयर्न का वेस्टेज मटेरियल हो रहा मिलावट.

चंद्रपूर विशेष :

जिले के वेकोली से जानेवाले कोयले की चोरी विमला रेल्वे सायडिंग और वणी तहसील के राजूर रेल्वे सायडिंग से हो रही है, इस चोरी के संदर्भमे मनसे की ओर से प्रशासन को निवेदन देकर अवगत करानेके बावजूद जिला प्रशासन के आशीर्वादसेही कोयले की बडी पैमाने पर चोरी और हेराफेरी हो रही है. इसमें अच्छा कोयला खुले मार्केट मे और कोयला चुरी के साथ वॉशरिज के रिजेक्टेड कोल के साथ स्पँज आयर्न का वेस्टेज मटेरियल मिलावट करके पॉवर प्लांट को भेजा जा रहा है. इस खेल मे महावीर कोल वॉशरिज, महावीर कोल और आशिष जैन इनकी मिलिभगत होनेकी बात सामने आयी है. खास तौर पर देखा गया है की राजूर रेल्वे सायडिंग से महावीर कोल वॉशरिज के माध्यमसे मध्यप्रदेश पॉवर जनरेशन कंपनी को जानेवाले कोयले मे हेराफेरी करके स्टीम कोयला राजूर रेल्वे सायडिंग से चंद्रपूर के नागाडा ताडाली परिसर मे स्थित कोयला प्लॉट पर भेजा जा रहा है.

कोयला चोरी के इस बडी वारदात को अंजाम देनेके लिए कोयला व्यापारीयोने जिला प्रशासन और पोलीस प्रशासन के साथ बोली लगाई है इसलिए बेधडक कोयला चोरी हो रही है ऐशी चर्चा है. विशेष बाब यह है की मध्यप्रदेश पॉवर जनरेशन कंपनी हो या चंद्रपूर थर्मल पॉवर स्टेशन करीबन 8500 रूपयोको बीकनेवाला कोयला रिजेक्टेड कोल के नाम से 5500 रूपयोको गैरकानुनी तौर पर बेचा जा रहा है जिसमे पॉवर प्लांट को करोडो का चुना लगाया जा रहा है.

चंद्रपूर के ताडाली सायडिंग और वणी तहसील के राजूर सायडिंग से वणी और चंद्रपूर के कोयला व्यापारियों के निजी प्लॉट पर कोयला उतारा जा रहा है और वो कोयला करीबन 6000 रुपया प्रती टन बिक रहा है जबकि वेकोली से जानेवाले मध्यप्रदेश पॉवर जनरेशन कंपनी, गुजरात और कर्नाटका पॉवर कंपनी को कोयले का रेट 8500 रुपया बताया जा रहा है.

राजूर रेल्वे सायडिंग से महावीर कोल की गडियां जिनका नंबर आखिर मे 09 है वो गाडियोसे विकास अग्रवाल और आशिष जैन इनके गुप्त निगरानी से चंद्रपूर के नागाडा प्लॉट पर कोयला उतारा जा रहा है. वणी राजूर से हररोज करीबन पाच से दस गाडिया स्टीम कोयला भरकर चंद्रपूर आ रही है तो ताडाली विमला रेल्वे सायडिंगसे स्टीम कोयला वणी के कोयला व्यापारियों के निजी प्लॉट मे जा रहे है. इसलिए राजूर और विमला रेल्वे सायडिंग कोयला चोरी के अड्डे बने हुए है.

Previous articleसनसनी :- कैसे विमला रेल्वे सायडिंग मे होती है अच्छे कोयले मे मिलावट?
Next articleधक्कादायक :- रात्रीच्या अंधाराचा फायदा घेत माता महाकाली चे मंदिर केले उध्वस्त?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here